Writing The Feelings:Latest News Hindi Love Shayari Story

Imaginations-Feelings-Thoughts कल्पना-भावनाएँ-विचार Latest News Love Shayari Romantic Story Urdu Shayari Two Line Shayari Whatsapp Status

08 June 2020

Disclaimer:- किसी भी व्यक्ति, स्थान से समानता मात्र एक संजोग है, अगर इस कहानी से आपकी भावनाओं को ठेस पहुंचती है तो हम उसके लिए क्षमा प्रार्थी है।

Note:- if you are new here, please read the previous part.



In previous part:- नेहा अपनी और रवि की कहानी बता चुकी थी और नितिन अपनी और संध्या की कहानी नेहा को सुना रहा था। 

नितिन:- ,,,,,,,,,वो मेरी life की पहली date थी। उस रोज हमने एक दूसरे के no. लिए। जब वो auto में बैठकर घर जाने को थी, तब उसने मेरे कान के पास आकर धीरे से बोला 'hey stupid i really like you' और तुरंत वो auto चल दिया। मैं घर पर आकर वो no. मिलाता हूँ, पर वो no. लगा ही नही। मैंने काफी बार कोशिश भी की उसकी किसी friend से उसका no. ले सकू पर उसने अपना no. किसी को भी नही दे रखा था फिर मैं भी अपने exams की तैयारी में लग गया। exams खत्म हुए, school खुले और मैं 12th class में आगया। school के पहले दिन मैं अपने दोस्तों को ignore कर सीधा उसकी class की तरफ गया। उसकी class में उसके सभी दोस्त थे बस एक वो ही नही थी। मुझे लगा कि शायद वो fail हो गयी पर उसकी friends ने बताया कि वो पढ़ाई में काफी होशियार थी और उसके सारे exams अच्छे गए थे। फिर मैं सोचने लगा कि वो हो सकता है एक या दो दिन बाद school आना शुरू करे। उसी दिन school से घर जाते time मुझे संध्या की friend मिलती है उसने बताया कि आज संध्या अपने पापा के साथ आयी थी और वो अपना transfer certificate लेकर चली गयी। मैं shock में था मैंने उसकी friend से पूछा कि अब वो कहाँ गयी है कुछ पता है या उसका कोई contact no. , पर उसके पास कुछ नही था। बस उसके बाद से आज तक मेरी भी उससे कोई बात नही हुई।

नेहा:- बहुत बढ़िया, मतलब हम दोनों की मोहब्बत हमारे साथ नही है।

नितिन:- हाँ बात तो सही है, पर कम से कम आपको पता तो है कि क्या गलती रही थी। मेरे को तो कुछ भी नही पता कि वो no. उसने जान कर गलत दिया था या अनजाने में, मेरी story में तो बस suspense है।

नेहा समझ जाती है कि नितिन काफी emotional हो रहा है संध्या को याद करके इसीलिए वो फिर उसके mood को ठीक करने के लिए हँसी मज़ाक करने लगती है।

अब नितिन और नेहा की दोस्ती काफी अच्छी चल रही थी। वो दोनों ही एक दूसरे की feelings को काफी अच्छे से समझने लगे थे। नेहा दिन में एक बार नितिन को call ज़रूर किया करती थी फिर वो दोनों काफी देर तक अपनी life के बारे में एक दूसरे से बाते share किया करते थे। बातों बातों में दोनों को ये भी पता लगा कि वो दोनों ही same city में रहते है और उन दोनों की कहानी भी इसी शहर से जुड़ी हुई है।

नेहा:- यार हम दोनों एक ही शहर में रहते है पर एक दूसरे को जानते ही नही थे।

नितिन:- हाँ और हम तो दोस्त भी गलती से ही बने है।

दोनों फिर इस बात पर हसने लगते है।

अब नितिन और नेहा की सुबह एक दूसरे को good morning wish करके शुरू होती थी और रात good night बोलकर। अब नेहा ये जान गई थी कि नितिन को कोनसे कोनसे खेल खेलना पसन्द है और नितिन भी जान चुका था कि नेहा को खाने में क्या पसन्द है उसे कहाँ कहाँ घूमना पसन्द है।

20/05/2020 को नेहा का न सुबह कोई message आया और नाही उसने नितिन के किसी भी message का reply किया। नितिन उसे कभी भी खुद call नही करता था। हर बार वो ही call किया करती थी। नितिन बहुत परेशान हो रहा था आखिर वो नेहा को call कर देता है।

नेहा:- hello

नितिन:- कहा हो यार सुबह से। मैं messages कर कर के परेशान हो गया।

नेहा:- यार आज सुबह से तबियत ठीक नही थी, थोड़ा fever भी है और सिर भी बहुत दर्द कर रहा है।

नितिन:- तुमसे मैं इसीलिए ice cream खाने से मना कर रहा था पर तुम तो जिद्दी हो मेरी क्यों सुनोगी क्योकि मैं तो पागल हूँ न।

नितिन बहुत गुस्से में उससे ये बोलता है।

नेहा:- ठीक है यार sorry,,,, बहुत मन कर रहा था इसीलिए खा ली। आगे से ऐसा नही करूँगी

नितिन:- अब चुपचाप दवाई खाओ और आराम करो जब तक ठीक नही हो जाती हो।

नेहा:- ohk महाराज,,,, और कोई आज्ञा

नितिन:- नही ,,,,,

नेहा:- bye,,, तुम भी अपना ध्यान रखना।

नितिन:- hmm  bye

कहीं ना कहीं नितिन, नेहा को पसंद करने लगा था और ये बात वो खुद मानने भी लगा था। वो ये बात नेहा को बताना भी चाहता था पर उसने सोचा कि मिलकर ही ये बात नेहा को बताएगा।

24/05/2020 को नेहा का message आता है।

नेहा:- hey

नितिन:- hii ,,,, अब ठीक हो तुम?

नेहा:- हांजी अब मैं ठीक हूँ।

नितिन:- यार इस lockdown के बाद मिलें?

नेहा:- हाँ,,,, मिलते है मज़ा आएगा।

नितिन खुश हो जाता है और lockdown के खत्म होने का इंतज़ार करने लगता है।

31/05/2020 तक खबर आगयी थी कि 08/06/2020 से देश मे काफी हद तक जन जीवन सामान्य हो जाएगा।

नेहा:- hey तुमने सुना क्या!! ये restaurant फिर से open होने वाले है।

नितिन:- हाँजी सुन लिया मेने।

नेहा:- मिलने के लिए तैयार हो?

नितिन:- बिल्कुल तैयार हूं।

नेहा:- ठीक है टाइम और जगह मैं बताऊंगी तुमको call करके।

नितिन:- ठीक है।

फिर आखिरकार वो दिन आ जाता है जब वो दोनों मिलने वाले थे। 08/06/2020 को नेहा सुबह call करती है।

नेहा:- मैं तुमको दुपहर 01:00 बजे restaurant में मिलूंगी। late मत होना।

नितिन:- मैं time से आजाऊँगा।

देखते ही देखते 12:30 हो जाते है। नितिन, नेहा से मिलने के लिए घर से निकलता है। वो रास्ते से एक गुलाब का फूल भी खरीद लेता है। वो बस restaurant पहुँचने ही वाला होता है तभी नेहा उसको कॉल करती है।

नेहा:- hello, नितिन

नितिन:- हाँ बोलो क्या हुआ

नेहा:- यार तुम 2 minute के लिए बस मेरी बात सुनना बस।

नितिन:- हाँ बोलो मैं सुन रहा हूँ

नेहा:- मुझे पता है तुम यह सुनकर बहुत खुश होंगे।

नितिन:- अब बताओगी भी!!

नेहा:- तुमको राहुल याद है!

नितिन:- हाँजी याद है।

नेहा:- राहुल उस note को कभी रवि तक पहुँचा ही नही पाया था क्योकि रवि उसके बाद कभी city में वापस आया ही नही।

नितिन:- अच्छया, ये राहुल ने बताया तुमको!!!

नेहा:- नही, ये मुझे रवि ने ही खुद बताया है।

ये सुनकर नितिन को धक्का सा लगता है।

नितिन:- रवि ने कैसे?

नेहा:- आज 12:00 बजे रवि मेरे घर आता है। उसने मुझे बताया कि वो lockdown में अपने घर वापस आ गया था। उसकी राहुल से बात हुई तो राहुल ने उसको वो note दिया और आज रवि उसको लेकर सीधा मेरे घर आ गया और अभी मैं उसी के साथ हूँ उसी restaurant में जहाँ तुम और मैं मिलने वाले थे। तुम please आज यहाँ मत आना। हम लोग फिर कभी मिल लेंगे पर आज मैं रवि के साथ ही रहना चाहती हूँ दिन भर।

नितिन:- कोई नही यार तुम रवि से बात करो और सारी misunderstanding clear करो। ,,,,,,, bye

नेहा:- bye.

और इसी के साथ वो call कट जाती है। नितिन restaurant के ठीक बाहर खड़ा था। उसका नेहा को देखने का बहुत मन था पर वो मायूस होकर हाथ में गुलाब लिये वापस घर की तरफ चल पड़ता है। वो सोचता है कि काश थोड़ी हिम्मत करके उसको दूर से एक बार देख लिया होता, पर फिर वो खुद को समझाता है कि वो सिर्फ मेरी अच्छी दोस्त ही तो थी, मैं ही पता नही क्यों उसको दोस्त से बढ़कर मानने लगा था। खैर जो भी हुआ ठीक ही हुआ। नेहा और रवि एक दूसरे से प्यार भी बहुत करते थे। वो दोनों हमेशा ऐसे ही साथ रहे।

ये सोचते हुए वो घर आता है और उस गुलाब को अपने school bag में सम्भाल कर रख देता है।

वो बीते lockdown की सारी बाते याद कर के मुस्कुराता है। वो अब नेहा के लिए काफी खुश था और अपनी life, जैसे वो पहले जी रहा था, वैसे ही जीने की सोचता है।

तभी उसके phone पर एक message आता है,,,,

Text:- कैसे हो,,,,,???

Conclusion :- "हमको अपनी ज़िंदगी कभी भी किसी मोड़ पर नही रोकनी चाहिए....... लोग हमारी ज़िन्दगी में आते है, जाते है, कुछ रह भी जाते है पर ज़िन्दगी चलती रहनी चाहिए। हमेशा खुश रहो जो आपके पास है उसकी कद्र करो और क्या पता किस मोड़ पर आपकी किस्मत आपको चोंका दे" 




   Harsh Gaur
Follow On Instagram :- https://www.instagram.com/Harsh_hemu/
Follow On Twitter :-https://twitter.com/Harsh_hemu


                                                    Mradul Agrawal